Breaking

शासकीय जमीन को बेजा कब्जा करके बेचा जा रहा है


नवागढ ब्लाक के अंतर्गत ग्राम पंचायत 
कोटिया 

                                     
 छत्तीसगढ़ शासन नरवा गरूवा घुरवा और बाड़ी के विकास पर जोर दे रही है लेकिन यदि  ऐसा भी गांव सामने आया जहां विकास करने के लिए भूमि हि न बचे और न नरवा बचे तब उस गांव का विकास किस प्रकार किया जाय यह शासन द्वारा सोचने की बात है यह मामला जांजगीर जिले के 
नवागढ़ ब्लाक के अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत कोटिया की है जहां गांव के ही कुछ चुनिंदा लोगों के द्वारा गांव के खाली जमीनो को बेजा कब्जा कर मोटी रकम लेकर बेचा जा रहा है बच्चों के खेलने-कूदने के मैदान को भी निगल गये ये लोग यहां तक कि नरवा को भी पाट कर खेत और मकान बना दिया गया है गौठान बनाने के लिए भी जमीन नहीं है और यदि भविष्य में शा
सन द्वारा कुछ निर्माण कार्य का आदेश मिले तो क्या करेगी ग्राम पंचायत कोटिया, गांव के कुछ चुनिंदा लोग खाली पड़ी जमीन को भी कैसे बेच रहे हैं इस पर प्रशासन को संज्ञान लेना चाहिए हद तो तब हो गई जब एक ग्रामीण के आने जाने के रास्ते को ही   कब्जा कर         बेच दिया गया जो जमीन गांव के बच्चों के खेलन के लिए छोड़ी गई तहसीलदार  महोदय नवागढ़ को 21/07/2020 व तहसीलदार शिवरीनारायण को आवेदन दिनांक 23-07-2020 को दिया गया था जिस पर अभी तक किसी भी प्रकार की कार्यावाही नहीं की ग
ई है अलग-अलग जगह काबिज जमीनो को बेंच दिया गया है बच्चों के खेलन की जगह को भी   व तहसीलदार महोदय को इस मामले का संज्ञान लेकर उचित कार्यवाही करनी चाहिए जिससे भविष्य में नई पीढ़ी के युवाओं के लिए शासन द्वारा विकास की योजनाओं को संचालित करने स्थान मिल सके जिससे ग्राम कोटिया के ग्राम वासियों का विकास हो सके बेजा कब्जा कर जमीन को बेचने के मामले में परिवार की संख्या अधिक होने के कारण अन्य स्थान पर मकान बनाया गया  बच्चो के खेलने का स्थान है अब बरसात में  व्यक्ति के द्वारा पुराने रास्ते 
को भी बंद कर दिया गया है जिस  व्यक्तियों द्वारा ही जमीन को कब्जा किया गया था जिसको ऊंचे दामों पर बेच दिया गया और बेचा जा रहा है गांव वालों के पास विकास करने को जमीन नहीं है।।                                                     रिपोर्टर अर्जुन सरकार 
Powered by Blogger.